blogid : 313 postid : 2517

Why men cheat their partner?

Posted On: 7 Jul, 2012 मेट्रो लाइफ में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

cheaterप्राय: हम पुरुषों को ऐसे व्यक्तित्व के रूप में देखते हैं जो अपनी आवश्यकता के अनुसार किसी के साथ संबंध बनाते हैं और जरूरत पड़ने पर किसी को भी धोखा दे सकते हैं. उनके लिए प्रेम रूपी भावनाओं का कोई मोल नहीं होता इसीलिए वह कभी अपनी प्रेमिका या पत्नी के प्रति समर्पित और प्रतिबद्ध नहीं रह सकते.


पुरुष के ऐसे स्वभाव से भली प्रकार परिचित होने के बावजूद हम इस कथन पर विचार कर खुद को संतुष्ट कर लेते हैं कि अगर पुरुष को किसी से सच्चा प्रेम हो जाए या उसे अपनी पसंद का जीवन साथी मिल जाए तो उसमें धोखा देने जैसी प्रवृत्ति समाप्त हो जाती है. इसके विपरीत वह अपना सारा जीवन उस एक शख्स पर ही केन्द्रित कर लेते हैं और कभी किसी अन्य महिला की ओर नहीं देखते.


Nature of men



लेकिन अगर आप भी ऐसी ही मानसिकता रखती हैं कि आपका पति या प्रेमी जो आपसे बेहद प्रेम करता है कभी भी आपको धोखा नहीं दे सकता, तो आपको थोड़ा सतर्क रहने की जरूरत है. क्योंकि हाल ही में हुए एक शोध के नतीजे आपके खुशहाल वैवाहिक संबंध को ग्रहण लगा सकते हैं.


ब्रिटेन के विनचेस्टर विश्वविद्यालय से जुड़े समाजशास्त्री एंडरसन का कहना है कि पुरुष भले ही अपने साथी से कितना ही लगाव क्यों ना रखते हों, भावनात्मक तौर पर उससे कितना ही क्यों ना जुड़े हों लेकिन फिर भी उनमें धोखा देने प्रवृत्ति में कोई कमी नहीं आती. उनकी इस धोखाधड़ी के पीछे कारण यह नहीं है कि उनके प्रेम में कोई कमी है बल्कि वह सिर्फ अन्य महिलाओं के साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए ही उनके साथ प्रेम का नाटक करते हैं.


शोध की मानें तो आज अवैध संबंधों के प्रति आकर्षण में अत्याधिक वृद्धि देखी जा सकती है और जो पुरुष ऐसे संबंधों में नहीं पड़ते वह खुद को सामाजिक बंधनों में जकड़े हुए होते हैं.


एंडरसन ने अपनी किताब द मोनोगेमी गैप: मैन, लव एंड द रियलिटी ऑफ चीटिंग में यह साफ लिखा है कि पुरुषों द्वारा धोखा दिया जाना एक अपवाद नहीं है बल्कि यह पुरुष का एक स्वाभाविक गुण है.


Why men cannot be loyal to their partner


अपने अध्ययन में एंडरसन ने 120 पुरुषों को शामिल किया जिनमें से लगभग 80 प्रतिशत पुरुषों ने अपनी साथी को धोखा देने की बात स्वीकार की है. उल्लेखनीय है कि पुरुषों का यह भी कहना था कि आज भी वह अपनी पत्नी या प्रेमिका से उतना ही प्रेम करते हैं जितना पहले करते थे और उसी के साथ अपना जीवन व्यतीत करना चाहते हैं.


शोध की मुख्य स्थापनाओं के अनुसार पुरुष भावनात्मक जुड़ाव तो बस एक महिला से रखते हैं लेकिन अन्य महिलाओं के प्रति शारीरिक आकर्षण उनमें अवैध संबंधों के प्रति रुझान उत्पन्न करता है.


अगर हम इस शोध को भारतीय परिदृश्य के अनुरूप देखें तो हम इस बात से इनकार नहीं कर सकते कि आज भारत में भी पुरुष अवैध संबंधों की गिरफ्त में देखे जा सकते हैं. इतना ही नहीं युवकों के लिए अपनी प्रेमिका को धोखा देना और उसके पीठ पीछे दूसरा संबंध बनाने का प्रचलन बढ़ता जा रहा है. उनके इस स्वभाव को प्रेम के साथ जोड़कर देखा जाना शायद प्रेम जैसी पवित्र भावना का भी अपमान ही होगा. अगर कोई पुरुष वास्तव में अपनी प्रेमिका या पत्नी से प्रेम करता है तो कभी भी किसी अन्य महिला के प्रति आकर्षित होने या विवाहित संबंध से बाहर जाकर अपने लिए साथी तलाशने जैसी विचार उसके भीतर विकसित नहीं हो सकते.


Recent study has shown that cheating a partner is a natural tendency of men. Men really cant resist if they are approached by other women. Relationship between men and women can only be sustain if both the partners be loyal to each other.




Tags:                                                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rajivupadhyay के द्वारा
February 3, 2012

भारत मैं पुरुषों व स्त्रियों का व्यवहार इंग्लॅण्ड से विभिन्न है . इस लिए इस तरह के लेख भ्रामक व हानिकारक हैं . प्रकृति ने जीव रक्षा के लिए पुरुषों मैं स्त्रियों के प्रति आकर्षण पैदा किया है. यह भ्रम है की स्त्री अधिक सुन्दर है. हर जीव मैं जाहे शेर हो , बैल हो , मुर्गा हो पुरुष ही ज्यादा सुन्दर होता है. स्त्री सिर्फ पुरुष को सुन्दर लगती है जैसे गाय सिफ बैल को सुंदर लगती है . इस प्राकृतिक आकर्षण को विवेक व संस्कारों से संतुलित किया जाता है . विवेक पुरुष के व्यवहार को संतुलित कर सकता है पर उसकी स्त्री के प्रति काम भावनाएं दबी रहती हैं . विवाह से कुछ अंतर नहीं पड़ता . वह सतुलित सामाजिक जीवाण बिताता रहता है पर सुंदर हेरोइने को फिल्म मैं देखता रहता है. अब बदले युग मैं इन्टरनेट पर पोर्न देख लेता है . यह शायद उसके स्वस्थ्य के लिए अच्छा भी होता है. बेकार बात का बतंगड बनाने मैं कुछ नहीं है. पर सौ पिक्चर देख कर और सौ इन्टरनेट पर ‘ फेक हेरोइने की नग्न तस्वीरें देख कर भी वह जलेबी भी अकेला नहीं खा पाता . परिवार के प्रति वह स्त्री से कम समर्पित नहीं होता . इस लिए उसके फिल्म की हेरोइने या इन्टरनेट के प्रेम को दुश्चरित कहना बंद करें . शारीरिक सम्बन्ध भारत मैं शादी के बाद विश्व मैं सबसे कम होंगे .


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran