blogid : 313 postid : 3519

आपका ब्वॉयफ्रेंड आपकी शॉपिंग से क्यों डरता है?

Posted On: 4 Jun, 2013 मेट्रो लाइफ में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

चल यार आज संडे है, शॉपिंग के लिए चलते हैं……यार बजट से ज्यादा शॉपिंग करने से मेरा पूरा बैलेंस गड़बड़ा गया है…..तू कह रही थी इसीलिए ले लिया, मुझे कुछ खास पसंद नहीं था……




उपरोक्त पंक्तियां पढ़ने के बाद महिलाएं समझ ही गईं होंगी कि यह लेख उन्हीं पर आधारित है.. हो भी क्यों ना आप लोग जब मार्केट जाती हैं तब यकीन मानिए चिंता आपके ब्वॉयफ्रेंड, पति या पिता को होती है, आपकी नहीं बल्कि आपके पर्स में जो पैसे हैं उनकी…..



क्यों इतनी बदनाम है ‘कामसूत्र’


वैसे इस बात में भी कोई शक नहीं कि जब महिलाएं शॉपिंग से घर लौटकर अपना पर्स टटोलती हैं तो खाली पर्स देखकर उन्हें भी धक्का तो जरूर लगता होगा या फिर जब क्रेडिट कार्ड का बिल या बैंक अकाउंट की डिटेल आती है तब आपको पता चलता है अपनी शॉपिंग में आपने कितने पैसे फिजूल में उड़ा दिए. आप सोचती हैं अगली बार ऐसा नहीं होगा लेकिन जब वो ‘अगली बार’ आता है तब फिर आप अपनी सहेली के साथ जाकर शॉपिंग में उतना या कहें उससे भी अधिक पैसे लुटा आती हैं जितनी पिछली बार उड़ाए थे और यह सिलसिला हर बार चलता रहता है, आपके ना चाहने के बावजूद भी.


फीमेलफर्स्ट डॉट कॉम नामक वेबसाइट और लीवरपूल वन कंपनी द्वारा हुए एक अध्ययन में इस समस्या का समाधान खोजने की कोशिश की गई है. इस अध्ययन में 2000 महिलाओं को शामिल कर यह स्पष्ट किया गया है कि वे महिलाएं जो सहेलियों के ग्रुप में शॉपिंग करती हैं वह अन्य महिलाओं से कहीं ज्यादा पैसे खर्च कर देती हैं. इसके विपरीत अगर महिलाएं अकेले जाती हैं खरीददारी करने तो वे कम पैसे खर्च करके आती हैं. उन दो हजार महिलाओं में से वे महिलाएं जो अकेले शॉपिंग के लिए गईं उनमें से 62% ने यह फर्क महसूस किया.



कुछ खट्टा, चटपटा और मजेदार


लीवरपूल की प्रवक्ता का कहना है कि शॉपिंग के लिए अकेले जाना बोरिंग होता है, इसीलिए महिलाएं अपनी सहेलियों के साथ शॉपिंग के लिए जाना पसंद करती हैं और जब वे अपनी सहेलियों के साथ जाती हैं तो फिर वह खाती-पीती, मौज-मस्ती करती हैं, जिसमें ज्यादा धन व्यय होता है.


उपरोक्त अध्ययन को अगर भारतीय परिदृश्य के अनुसार देखें तो कहीं तक भी ऐसा नहीं कहा जा सकता कि यह अध्ययन सिर्फ विदेशी महिलाओं की जीवनशैली तक ही केन्द्रित है. क्योंकि भारतीय हालात भी कुछ ऐसे ही नजर आते हैं जहां महिलाएं शॉपिंग को ही अपना धर्म बना लेती हैं. कॉलेज की लड़कियां, शादीशुदा महिलाएं, ऑफिस जाने वाली युवतियां सब अपनी सहेलियों के ही साथ शॉपिंग करना पसंद करती हैं और ज्यादा पैसे खर्च कर देती हैं. अगर वे अकेली जाएं तो वह ऐसी कोई चीज नहीं खरीदती जो उन्हें पहली ही नजर में पसंद ना आए. जबकि अगर वो सहेली के साथ हैं तो वह उसकी च्वॉइस या फिर उसकी देखा-देखी कुछ चीजें खरीदकर बाद में पछताती हैं. पैसे की बचत करना बहुत जरूरी है, सहेलियों को टाइम देना, उनके साथ मौज-मस्ती करना भी जरूरी है लेकिन अगर शॉपिंग के अलावा कोई प्लान बनाया जाए तो उसमें बुरा क्या है.


पुरुष वाकई ये नहीं कर सकते

डायटिंग करने के दुष्परिणाम

किशोरों को पसंद है कंप्यूटर पर पॉर्न फिल्में देखना


Tags: girls shopping habit, girls and shopping, habits of girls, why girls prefer shopping, how to save money, गर्ल्स, लड़की और शॉपिंग, पैसों की बर्बादी, बचत करने के तरीके






Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

kannu के द्वारा
June 4, 2013

तो कोई ऐसा तरीका बताओ जो बोरिंग ना हो

शीतू के द्वारा
June 4, 2013

पर अकेले जाना भी तो बोरिंग है


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran