blogid : 313 postid : 3537

14,000 कदमों के पीछे का राज !!

Posted On: 18 Jun, 2013 मेट्रो लाइफ में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

20 से 30 साल के युवाओं का शरीर आजकल 70 साल के वृद्ध व्यक्ति जैसे काम करने लगा है. आखिर क्या कारण है इन सब हालातों का? युवाओं के स्वास्थ्य में आ रही इस निरंतर गिरावट के कई कारण हो सकते हैं, मसलन खानपान में हो रही चूक, सेहत के प्रति लापरवाही या फिर प्राथमिकताओं में आ रहे बदलाव. वजह चाहे जो भी हो लेकिन इस बात में कोई संदेह नहीं है कि आज युवाओं की जीवनशैली इतनी ज्यादा जटिल और भागदौड़ से भरी है कि इसका सीधा नुकसान उन्हें अपने स्वास्थ्य की बलि देकर चुकाना पड़ रहा है.



विशेषज्ञों की मानें तो आज से करीब एक दशक पहले उम्र का 50वां पड़ाव पार करने के बाद ही लोगों को डॉक्टर के पास जाने की जरूरत पड़ती थी लेकिन अब हालात बहुत गंभीर हो गए हैं क्योंकि अपनी जीवनशैली और विभिन्न प्रकार के मानसिक तनावों से जूझते हुए युवाओं और बीमारियों का साथ शुरू हो जाता है और यह अंत तक उनका पीछा नहीं छोड़ता.


पति जब शक करने लगे तो….

भागदौड़ भरी जीवनशैली के साथ-साथ तंबाकू, शराब और सिगरेट जैसे नशीले पदार्थों का सेवन करना भी इंसानी शरीर के लिए घातक होता है. लेकिन चिंताजनक बात यही है कि युवाओं की दिनचर्या में इन सब चीजों का महत्व बहुत बढ़ गया है और वे इससे इतर अपनी सेहत की ओर ध्यान ही नहीं दे पाते.



हाल ही में हुए एक अध्ययन की मानें तो लगभग 29 प्रतिशत किशोरों में तनाव और डिप्रेशन के लक्षण देखे जा सकते हैं, जिसके परिणामस्वरूप कम उम्र में ही उन्हें दिल की बीमारियों जैसा खतरा हो जाता है. यहां तक कि कई युवाओं को उम्र के तीसरे दशक में ही स्ट्रोक का सामना करना पड़ता है, यहां तक कि आज के समय में लगभग एक-तिहाई मौतें ही दिल का दौरा पड़ने की वजह से हो रही हैं. सबसे ज्यादा चौंकाने वाला तथ्य यह है कि 30 से नीचे के 900 के आसपास भारतीयों की मौत प्रतिदिन सिर्फ दिल का दौरा पड़ने से ही हो रही है. इसके अलावा दिल की अलग-अलग बीमारियों से संबंधित मौतें अचानक होने लगी हैं. अब डॉक्टर भी युवाओं को कम उम्र में ही पड़ने वाले इस दिल के दौरे को यंग स्ट्रोक का नाम देने लगे हैं.


कितना प्यार करता है आपका ब्वॉयफ्रेंड आपसे ?

डॉक्टरों का कहना है कि सेहत के प्रति लापरवाही बरतने के कई कारण हो सकते हैं जिनमें वैज्ञानिक तकनीकों पर जरूरत से ज्यादा निर्भरता और काम का अनियमित शेड्यूल आदि शामिल हैं. आज युवाओं के पास व्यायाम करने और खेलने-कूदने तक का टाइम नहीं बचा है जिसकी वजह से उनके शरीर में अतिरिक्त वसा जमने लगा है और यह बात सभी जानते हैं कि सेहत में वसा का जमना किसी गंभीर स्थिति के आमंत्रण जैसा ही है.



विशेषज्ञों का कहना है कि अगर स्वस्थ रहना चाहते हैं तो रोजाना करीब 14,000 कदम चलना चाहिए, नहीं तो परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहें. हम भी आपको यही राय देंगे कि अगर सफल और स्वस्थ जीवन की कामना करते हैं तो अपने कदमों को अब गिन-गिन कर बढ़ाना शुरू कर दें.


जो सोता है वो पाता है !!!

शायद आपको लड़कों को पटाना ही नहीं आता

आपका ब्वॉयफ्रेंड आपकी शॉपिंग से क्यों डरता है?

Tags: daily lifestyle, lifestyle news in hindi, changes in lifestyle, lifestyle update, health problems, youth health problems, लाइफस्टाइल, स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं, युवाओं की समस्याएं





Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran