blogid : 313 postid : 701796

तो इसीलिए घर के आंगन में तुलसी होना आवश्यक माना जाता है

Posted On: 9 Jan, 2015 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

सालों पहले हर घर के आंगन में तुलसी लगी होती थी और अब शायद ही कोई घर हो जिसके आंगन में तुलसी का पौधा लगा हो. अधिकाश लोग यह जानते होंगे कि घर के आंगन में लगा तुलसी का पौधा व्यक्ति के निजी जीवन को सुखमय बना सकता है पर बहुत कम लोग ही यह जानते होंगे कि बहुत जल्द ही तुलसी के कारण स्तन कैंसर से भी बचा जा सकेगा.


Tulsi-Plant


दरअसल अमेरिका के एक विश्‍वविद्यालय में आनुवांशिक प्रोद्यौगिकी का उपयोग कर तुलसी के औषधीय गुण बढ़ाने पर शोध किया जा रहा है. इस शोध से जुड़े वैज्ञानिकों के अनुसार तुलसी से स्‍तन कैंसर की दवा विकसित की जा सकती है. तुलसी के पत्तों को पीसने पर एक मिश्रण तैयार होता है उसे ‘इयूजिनोल’ कहा जाता है. उसे एक प्लेट पर रखी रसौली कोशिकाओं पर लगाने से कोशिकाओं के विकास को रोका जा सकता है. शोध से जुड़े वैज्ञानिकों का दावा है कि इससे पहले भी इसकी प्रमाणिकता के कई प्रमाण मिल चुके हैं इसलिए तुलसी, कैंसर जैसी जानलेवा  बीमारियों के लिए बेहतरीन दवा साबित हो सकती है.


Read: कैसे बनें दूसरों के लिए आकर्षण का केंद्र


तुलसी के पांच पत्तों के फायदे


तुलसी एक ऐसा पौधा है जो औषधीय गुणों से भरपूर है इसलिए हिन्दू धर्म में तुलसी के पौधे को पूज्य माना गया है. यहां तक कि हिन्दू धर्म के अनुसार घर के आंगन में तुलसी का पौधा लगाना अनिवार्य माना गया है. भले ही आज अमेरिका के एक विश्‍वविद्यालय में तुलसी के गुणों को लेकर शोध किया जा रहा हो लेकिन हजारों साल पहले से ही तुलसी के निम्नलिखित औषधीय फायदे बताए गए हैं:


  • हर रोज सुबह तुलसी के पांच पत्ते खाने से व्यक्ति पूरे दिन तरोताजा महसूस करता है.
  • बारिश के मौसम में रोजाना तुलसी के पत्ते खाने से मौसमी बुखार व जुकाम जैसी समस्याएं दूर रहती हैं.
  • तुलसी की कुछ पत्तियों को चबाने से मुंह का संक्रमण दूर हो जाता है और तुलसी की पत्ते दांतों को भी स्वस्थ रखते हैं.
  • चेहरे पर चमक बनाए रखने के लिए लोग बाजार में आई तरह-तरह की क्रीम का प्रयोग करते हैं लेकिन हर रोज तुलसी के पत्ते खाने से चेहरे की चमक हर दिन बढ़ती जाती है.
  • तुलसी की जड़ का काढ़ा बुखार नाशक होता है. तुलसी, अदरक और मुलैठी को घोटकर शहद के साथ लेने से सर्दी के बुखार में आराम मिलता है.

Next….

Read more:

दिल आखिर तू क्यूं रोता है


ना मतलब केवल ‘ना’ है


दिल आखिर तू क्यूं रोता है

Web Title : tulsi benefits



Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

678 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Dontarrious के द्वारा
May 21, 2016

Haaahhha. I’m not too bright today. Great post!

    Janessa के द्वारा
    May 21, 2016

    Most help articles on the web are inaccurate or inoteerhnc. Not this!

romesh sharma के द्वारा
January 13, 2015

Tulasi leaves should not be chewed, dangerous for gums. Ten leaves of Tulasi mixed with two black peper (kali mirch0 and grounded finely. make a tablet and swallow it with water. Loweres fever along with sore throat and running nose. Root of Tulasi is contra-indicated in people having higher blood pressure however is very potent aphrodisiac .Very good for the patients of low blood pressure.

yamunapathak के द्वारा
January 12, 2015

तुलसी की चाय ,तुलसी का काढ़ा एक स्वास्थ्यवर्धर पेय है तुलसी का नित्य सेवन करती हूँ.बहुत अच्छा ब्लॉग है. साभार

GOLDY के द्वारा
February 12, 2014

तुलसी मै हिर का वस होता है


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran