blogid : 313 postid : 850729

शादी के तुरंत बाद क्यों नव विवाहित जोड़ों को पेड़ से बांध दिया जाता है?

Posted On: 11 Feb, 2015 मेट्रो लाइफ में

Chandan Roy

  • SocialTwist Tell-a-Friend


“घाट-घाट पर पानी बदले तीन कोस पर वाणी” जी हाँ भारतवर्ष में यह कहावत प्रचलित है. इस कहावत का मूल आशय यह है कि यह देश विविधताओं से भरा है. यह देश संस्कृति और परंपराओं के उच्य मूल्यों के जरिए समय-समय पर विश्व समुदायों को अपनी ओर खिंचता रहा है. आप अपने विशाल देश की वैभवशाली परंपराओं और मान्याताओं से भली भांति वाकिफ हैं. इस समय भारत देश में शादी-विवाह का मौसम चल रहा है और यहां की शादी में अपनाई जाने वाली परंपराओं और मान्यताओं से आप जरूर परिचित होंगे. तो चलिए शादी-विवाह में होने वाली कुछ ऐसे ही परंपराओं और मान्याताओं की बात करते हैं जो विश्व में प्रचलित है.



wedding



1.भारत जैसे देश में जहां शादी के बाद दुल्हन को दूल्हे के साथ जाना पड़ता है लेकिन ग्रीस में लड़के-लड़की की शादी के बाद पहली रात दूल्हें को दुल्हन के घर पर गुजारनी पड़ती है. सुहागरात की सारी तैयारियाँ दुल्हन के घर वाले करते हैं. विवाहित जोड़ों का भावी जीवन सुखी और संपन्न रहे इसके लिए सुहागरात के सेज को पैसे और फूलों की मालाओं से सजाया जाता है.


Read: OMG- किसकी शादी का है यह कार्ड


2.अपने देश में दूल्हें का जूता छुपाने की रस्म फिल्म “हम आपके हैं कौन” के बाद से ज्यादा चलन में आया था. इस रस्म में सालियाँ दूल्हें और उनके भाइयों से जूते के बदले पैसा मांगती हैं और शरारत करती हैं लेकिन पूर्वी देशों में जब दूल्हा ब्रेकफास्ट करता है तो पहने हुए जुराब को किनारे से काटा जाता है. यह काम सालियाँ नहीं बल्कि दूल्हे का दोस्त करता है. इसके पीछे की मान्यता है कि दूल्हा  कभी भी अपनी पत्नी को अकेले छोड़कर कहीं नहीं जायेगा.


cute-wedding-bedroom-decoration-with-flowers (3)



3.यूं तो अब भारत में भी सगाई के लिए ‘अंगूठी’ का चलन आ गया है, पर पूर्वी देशों में सगाई की अंगूठी का अंदाज ही जरा हट के है. यहाँ सगाई में अंगूठी बांए की बजाय दाएं हाथ की तीसरी अंगुली में पहनाई जाती है. इस परंपरा के पीछे यहाँ की धार्मिक मान्यताएं है. ऐसा माना जाता है कि सारे शुभ और धार्मिक काम हम दाएं हाथ से करते हैं इसलिए सगाई की अंगुठी भी हमें दाएं हाथ की तीसरी अंगुली में पहनना चाहिए. इसका एक और कारण यह है कि तीसरी अंगुली की नस सीधे दिल तक पहुँचती है.



2



4.अपने यहाँ शादी के सात फेरे लिए जाते हैं और जीवनभर साथ निभाने की कसमें खाई जाती है पर पूर्वी देशों में शादी के बाद जीवनभर के साथ के लिए नए जोड़ों को एक सूखे पेड़ के साथ बांधकर उसपर ताला लगाना जाता है और उसकी चाबी को जंगल या नदी में फेंक दिया जाता है. ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से दोनों में आने वाले जीवन में प्यार और भरोसा बना रहें और उसमें किसी तीसरे की जगह ना हो.


Read: अगर मुझसे शादी करनी है तो तुम्हें मुझे बाथरूम ले जाना होगा, नहलाना होगा… मंजूर है? एक अनोखा लव प्रपोजल…


5.अपने यहाँ शादी होने के दिन से ही घर के बड़े-बुजुर्गों को पोता-पोती या नाती-नातिन देखने की लालसा बढ़ जाती है. किसी न किसी बहाने नव जोड़े को बच्चा पैदा करने के लिए उकसाते रहते हैं पर पूर्व देशों में घर के बड़े-बुजुर्ग दूल्हा-दुल्हन के सेज पर छोटे बच्चे को 5 मिनट के लिए सुला देते हैं ताकि नये जोड़ों को जल्दी से संतान की प्राप्ति हो. Next…



Read more:

इस शादी में रिश्तेदार हैं, बाराती हैं, दुल्हन है लेकिन दुल्हा अजीब है

दुल्हन थी, बराती थे पर दुल्हा नहीं…लेकिन हो गई शादी

जल्दी शादी करने के चक्कर में आप जिंदगी के बहुत से मजे गंवाने जा रहे हैं… यकीन नहीं आता तो खुद ही पढ़ लीजिए



Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran