blogid : 313 postid : 1004550

सोमवार आते ही पानी-पानी हो जाती हैं इस देश की लड़कियां

Posted On: 10 Aug, 2015 lifestyle में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भारत में सोमवार के प्रति लोगों की अलग-अलग धारणायें हैं. काम पर जाने वालों के लिये यह आलस्य भरा दिन होता है. रविवार की छुट्टी के बाद अगले दिन ऑफिस जाते वक़्त लगता है जैसे मन पर कोई बोझ हो! वहीं व्रत रखने वाली लड़की और महिलाओं के लिये यह त्रिशूलधारी शिव का दिन होता है. इस दिन शिव भक्त एकत्रित हो शिव महिमा की चर्चा करते हैं. सावन के सोमवार का महत्तव शिव भक्तों के लिये और विशिष्ट स्थान रखता है.


monday



Read:  इस देश में चूहे बनकर आए हीरो, बचा रहें हैं हजारों जानें


सोमवार को जो मनोदशा कर्मचारियों की होती है लगभग वैसी ही स्कूल जाने वाले बच्चों की होती है. लेकिन मध्य यूरोपीय देशों जैसे पॉलैंड, चेक गणराज्य और पूर्वी यूरोप के देश यूक्रेन में इस सोमवार का अलग महत्तव है. यूक्रेन के लड़के उस विशिष्ट सोमवार को लड़कियों के ऊपर पानी फेंक उन्हें सिर से लेकर पैर तक भिगो देते हैं. वहाँ ईसाई धर्म के मुख्य धर्म बन जाने पर वेट मंडे को ईसाईयों के रस्म के तौर पर अपना लिया गया है. वेट मंडे का संबंध पापों को धोने से है.



image20



Read :  पूरी दुनिया में बजता है इस देश के हुस्न का डंका


ईस्टर के दूसरे दिन लड़के बोतल और बाल्टियों में पानी भरकर लड़कियों का पीछा करते हैं और उन पर पानी उड़ेलते हैं. मूल परम्परा के अनुसार गाँव की सबसे सुंदर लड़की को भिगोया जाता है. हालांकि वर्तमान प्रचलन है कि लड़के किसी भी लड़की का पीछा कर उन्हें भिगोते हैं. ऐसा करते समय कई बार वो बाल्टियाँ कार के शीशों पर फेंक देते हैं.



image45



वैश्विक स्तर पर जल की कमी के बावजूद यूक्रेन के युवक बेफिक्र होकर इस पुरानी परम्परा की आड़ में जल बर्बाद करते हैं. इस सोचनीय स्थिति पर सफलता पाने के लिये युवकों को इस पुरानी परम्परा को समाप्त करने के विषय में सोचना चाहिये….Next


Read more:

देश की जनसंख्या बढ़ाने के लिए यह कंपनी दे रही है खास ऑफर

नमक के मिसाइलों से इस देश में कराई जा रही है वर्षा

देश के इस प्रतिष्ठित संस्थान को क्यों छोड़ रहे हैं छात्र?




Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran