blogid : 313 postid : 1111256

माँ बीनती है कूड़ा, बेटी बनी मिस ब्यूटी क्वीन

Posted On: 29 Oct, 2015 lifestyle में

Nityanand Rai

  • SocialTwist Tell-a-Friend

“लम्हें छू लेते हैं दिल को की रूँध जाते हैं गले”. ‘मिस अनसेंसर्ड न्यूज 2015′ के लिये उसकी ज़िंदगी के वो लम्हें कुछ ऐसे थे जैसे बैंक पासबुक में लेन-देन की अंकित प्रविष्टियाँ. अंतर महज भावनाओं और संवेदनाओं का था. मिस अनसेंसर्ड न्यूज बन चुकी खानिट्टहा फासायेंग को अपनी ऐसी परवरिश के लिये किसी को धन्यवाद कहना था.


p


शुक्रिया अदा करने के लिये वो उन्हीं गलियों में पहुँची जहाँ उसकी शुरुआती ज़िंदगी की बहुत सारी यादें थी. गंदगी पसरी उस गली में वापस जाना उसकी विवशता नहीं थी. उसे तो आभार की अभिव्यक्ति करनी था. उस गली में उसकी माँ रहती थी. फासायेंग अपनी माँ से मिलने उस गली में पहुँच गई. गंदगी भरे कूड़ेदानों के सामने उसकी माँ थी.


mint

थाईलैंड की 17 वर्षीया मिस अनसेंसर्ड न्यूज 2015 खानिट्टहा फासायेंग उन्हीं कपड़ों में माँ के कदमों में झुकी जिन कपड़ों में दुनिया ने उसे शोहरत की सीढ़ियाँ चढ़ते देखा.


Read: भूकंप ही नहीं, 26 तारीख को हुए हैं अन्य कई हादसे. जानिए क्या है 26 से आपदाओं का संबंध?


उन्हीं गलियों में उसकी माँ ने कूड़ों को एकत्र और उसके पुर्नचक्रण से मिले पैसों से फासायेंग को अपना जीवन सँवारने का मौका दिया था. गरीबी से जूझती उस 17 साल की लड़की के पास इतने पैसे भी नहीं थे कि वह अपनी उच्च शिक्षा पूरी कर सके. लेकिन वर्षो पहले पिता के परिवार से अलग हो जाने के बाद उसकी माँ ने उसकी ज़िंदगी और अरमानों को मरने नहीं दिया. वह कूड़े के पुर्नचक्रण से मिले पैसों से उसकी ज़िंदगी सँवारती रही.


thailand


इस मेहनत ने रंग दिखाया और देखते ही देखते फासायेंग शोहरत की पहली सीढ़ी पार कर गई. पर उन सीढ़ियों पर चढ़कर भी उसकी ज़िंदगी माँ के कदमों में झुकी रही..Next


Read more:

दो कर्मचारियों के प्रेम प्रसंग के कारण 700 जेनरिक दवाओं की बिक्री पर प्रतिबंध

लकड़ी से बनी ये बाइक दे रही है बड़ी कंपनियों की बाइक को टक्कर

तीन वर्ष की उम्र में हुई थी शादी, अब पिता निकला पति



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Maralynn के द्वारा
May 21, 2016

I’ve been loniokg for a post like this forever (and a day)


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran