blogid : 313 postid : 1315547

सैलरी के अलावा नींद पूरी करने के मिलते हैं 33000 रुपए, इसके पीछे ये है मकसद

Posted On: 21 Feb, 2017 lifestyle में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

ऑफिस में काम करते-करते अक्सर आपका मन भी उब जाता होगा. वहीं हम में से ज्यादातर लोग तो ऐसे हैं जिन्हें ऑफिस के माहौल में कभी-कभी झपकी भी आ जाती होगी, लेकिन जैसे स्कूल में सोना बुरी बात समझी जाती थी, उसी तरह ऑफिस में सोने वाले कर्मचारी बॉस की नजर में आलसी और अनुशासनहीन समझे जाते हैं, लेकिन क्या करें शरीर की भी अपनी ही सीमाएं हैं, दिन-भर की भागती-दौड़ती जिंदगी में थकावट हो ही जाती है लेकिन कंपनी या बॉस के सामने ये बहाना काम नहीं आने वाला.


company 1

लेकिन अगर हम आपसे कहें कि दुनिया में एक बॉस ऐसा भी है जो अपने कर्मचारियों को ऑफिस में सोने के एक रात के अलग से 1700 रुपए देता है तो आपको यकीन नहीं होगा लेकिन ये सच है.


boss 2


एटना कंपनी के सीईओ मार्क बर्टोलिनी ने हाल ही में एक मीडिया चैनल को इंटरव्यू में बताया ‘ऑफिस स्पेस में अक्सर कर्मचारियों के सिर पर काम का प्रेशर रहता है, ऐसे में वो खुलकर जी नहीं पाते. साथ ही उन्हें सोने का टाइम भी नहीं मिलता, जिससे धीरे-धीरे उनकी काम करने की क्षमता कम होती जाती है. कंपनी को इससे बहुत घाटा होता है, इसलिए मैं एक रात सोने यानि 7 घंटे की नींद के बदले कर्मचारियों को 1700 रुपए देता हूं. यानि सालभर में एक कर्मचारी सोने के 33 हजार रुपए से ज्यादा कमा लेता है.’


boss 3


खास बात ये है कि कंपनी ने जब से ऐसी नीति लागू की है, कंपनी की प्रोडक्शन में बेहताशा बढ़ोत्तरी हुई है. ऐसे में मार्क कहते हैं आप दुनिया भर के कर्मचारियों पर सर्वे कर लीजिए, उनमें से ज्यादातर कर्मचारी यही कहेंगे कि काम के प्रेशर के चलते वो अपनी नींद पूरी नहीं कर पाते.



office 3


वहीं बात करें भारत की, तो यहां सोने के पैसे तो छोड़ दीजिए, यहां के असंगठित क्षेत्रों में काम करने की सैलेरी वक्त पर मिल जाए, ये बहुत बड़ी बात है और अगर काम के बीच में आपको नींद आ जाए तो फिर तो गनीमत है कि आपको बॉस की डांट से कोई बचा सके. …Next


Read more:

कहीं 300 करोड़ तो कहीं 500 करोड़ खर्च हुए इन शादियों में, ये हैं भारत की सबसे महंगी शादियां

भारत के सभी नोट पर हस्ताक्षर करने वाले व्यक्ति की ये है सैलरी

आपके अंदर ये 9 संकेत आपको कभी भी नहीं बनने देंगे अमीर



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran